केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 2019 चुनाव में PM पद को लेकर बड़ा बयान, विपक्ष को भी दी सलाह… 

खास बातेंLJP प्रमुख ने कहा- 2019 में प्रधानमंत्री पद के लिए कोई रिक्ति नहींउन्होंने कहा- विपक्ष को 2024 को ध्यान में रखकर मेहनत करनी चाहिएमोदी सरकार की उपलब्धियां आजादी के बाद से किसी भी सरकार से अधिकचंडीगढ़/नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि 2019 में प्रधानमंत्री पद के लिए कोई रिक्ति नहीं है. विपक्ष को 2024 को ध्यान में रखकर मेहनत करनी चाहिए. सत्तारूढ़ राजग में सहयोगी लोकजनशक्ति पार्टी (LJP) के प्रमुख पासवान ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार की पिछले चार वर्षों की उपलब्धियां स्वतंत्रता के बाद से किसी और सरकार की उपलब्धियों से अधिक है. रामविलास पासवान ने दलित मुद्दे पर भी विस्तार से बोला.

यह भी पढ़ें : विपक्ष को लामबंद करने में जुटीं ममता बनर्जी, कहा – 2019 में BJP फिनिश…

उन्होंने स्वीकार किया कि सरकार के साथ पहले दलित मुद्दे पर धारणा को लेकर समस्या थी, लेकिन उसे दुरुस्त कर दिया गया है. केंद्रीय उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री ने राजग सरकार को ‘गरीब, दलित और किसान समर्थक’ बताया. पासवान ने राजग के सहयोगी के तौर पर उनके अनुभव और 2019 के चुनावों में क्या वह भाजपा नीत राजग का हिस्सा बने रहेंगे इस बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में ये बातें कहीं.

Advertisement
यह भी पढ़ें : यूपी में BJP को हराने के लिये कांग्रेस, सपा-बसपा और आरएलडी का महागठबंधन, सीटें भी हुईं तय : सूत्र

उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार पिछले चार वर्षों से सत्ता में है और अगर इस अवधि के दौरान इस सरकार की उपलब्धियों को गिनेंगे तो स्वतंत्रता के बाद से किसी अन्य सरकार से इसकी उपलब्धियां बेहतर हैं.’ उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री पर कोई आरोप नहीं है. वह साधारण पृष्ठभूमि से आते हैं. 24 घंटे में वह 20 घंटे काम करते हैं. यह सरकार आम आदमी और गरीबों के लिए जनधन योजना, आम आदमी बीमा योजना लाई. इसके अलावा भारत आर्थिक महाशक्ति के तौर पर उभर रहा है.’

VIDEO :  क्या EVM का विकल्प बैलट बॉक्स है?

टिप्पणियां

उन्होंने कहा कि लोजपा ने उस वक्त राजग का समर्थन किया जब उसके पास सिर्फ दो अन्य सहयोगी-अकाली दल और शिवसेना थे. केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘पिछले दो वर्षों से हम (लोजपा) कह रहे हैं कि 2019 में कोई रिक्ति नहीं है. कांग्रेस और विपक्ष कड़ी मेहनत कर सकता है, लेकिन उन्हें महसूस करना चाहिये कि 2019 में कोई रिक्ति नहीं है. वे 2019 नहीं, बल्कि 2024 के लिए कठोर परिश्रम कर सकते हैं.’ 

(इनपुट : भाषा)

n_h

Leave a Comment